Breaking News
Home / HOME / अमित शाह के बेटे की कंपनी ने 1 साल में कर ली 16 हजार गुना तरक्‍की

अमित शाह के बेटे की कंपनी ने 1 साल में कर ली 16 हजार गुना तरक्‍की

Spread the love

ब्‍यूरो
भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के बेटे जय अमितभाई शाह की कंपनी टेम्पल इन्टरप्राइजेज प्राइवेट लिमिटेड का टर्नओवर कथित तौर पर 16 हजार गुना बढ़ने पर ट्विटर पर केंद्र सरकार निशाने पर आ गई है। #amitshahkiloot ट्विटर पर टॉप ट्रेंडिंग बना हुआ है। ट्वीट में कई यूजर्स ने मोदी सरकार के भ्रष्टाचार मुक्त और घोटाला मुक्त सरकार पर सवाल उठाए हैं। एक यूजर लिखते हैं, ‘जय का विकास हो गया।’ नगमा लिखती हैं, ‘वित्त मंत्री अरुण जेटली क्या इसकी जांच पड़ताल कराएंगे?’ सलमान अनीस लिखते हैं, ‘मोदी किसानों से कहते हैं, मैं आपकी आय डबल कर दूंगा, जुमला था। अमित शाह के बेट की इनकम बढ़ी हैं बस।’ पवन खेरा लिखते हैं, ‘पीएम मोदी क्या इसके खिलाफ कार्वाई करेंगे? अब क्या आपकी पीठ पीछे घोटाला हुआ है?’ सीमा लिखती हैं, ‘अमित शाह के पुत्र बिजनेस टाइकून के रूप में उभकर सामने आए हैं। उनकी आय कुछ ही महीनों में हजारों गुना बढ़ गई।’ डॉक्टर लूटपार्टी लिखते हैं, ‘जय अमित शाह को वित्त मंत्री बनाया जाना चाहिए। जल्द ही देश की अर्थव्यवस्था 16000 गुना बढ़ जाएगी।’ राजवी लिखते हैं, ‘जय का विकास हो गया। जबकि पूरा भारत अच्छे दिन खोज रहा था।’

प्रधानमंत्री मोदी अमित शाह के परिवार के साथ

कैसे हुआ जय शाह का विकास ?

गौरतलब है कि नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनते और अमित शाह भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष बनते ही उनके बेटे जय शाह की कंपनी टर्नओवर 16 हजार गुना बढ़ गया है। वेबसाइट ‘द वायर’ के मुताबिक रजिस्ट्रार ऑफ कंपनीज (आरओसी) से प्राप्त दस्तावेजों के अनुसार जय की कंपनी की बैलेंस शीट में बताया गया है कि मार्च 2013 और मार्च 2014 तक उनकी कंपनी में कुछ खास कामकाज नहीं हुए और इस दौरान कंपनी को क्रमश: कुल 6,230 रुपये और 1,724 रुपये का घाटा हुआ। लेकिन जैसे ही केंद्र में नरेंद्र मोदी की सरकार बनी और उनके पिता भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष बने जय शाह की कंपनी के टर्नओवर में आश्चर्यजनक रूप से इजाफा हुआ है।

साल 2014-15 के दौरान उनकी कंपनी को कुल 50,000 रुपये की इनकम पर कुल 18,728 रुपये का लाभ हुआ। मगर 2015-16 के वित्त वर्ष के दौरान जय की कंपनी का टर्नओवर लंबी छलांग लगाते हुए 80.5 करोड़ रुपये का हो गया। यह 2014-15 के मुकाबले 16 हजार गुना ज्यादा है। जय की कंपनी टेम्पल इन्टरप्राइजेज प्राइवेट लिमिटेड के टर्नओवर में उछाल की वजह 15.78 करोड़ रुपये का अनसेक्योर्ड लोन है जिसे राजेश खंडवाल की फिनांशियल सर्विसेज फर्म ने उपलब्ध कराया है। यहां यह बताना जरूरी है कि राकेश खंडवाला भाजपा के राज्यसभा सांसद और रिलायंस इंडस्ट्रीज के टॉप एग्जिक्यूटिव परिमल नथवानी के समधी हैं।

कांग्रेस ने उठाए सवाल

लेकिन कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल का कहना है कि ऐसा लगता है कि 2014 में सरकार बदलने के साथ अमित शाह के बेटे की किस्मत भी बदल गई है। इसके साथ ही इस कंपनी को लोन मिलने लगे। राजीव खांडेलवाल नामक जिस शख्स ने अपनी फाइनेंशियल कंपनी से टेम्पल इंटरप्राइजेज को 15.78 करोड़ का लोन दिया है वह अक्टूबर 2016 में टेम्पल इंटरप्राइजेज प्राइवेट लिमिटेड बंद हो गई है और इस कंपनी के बंद करने की वजह बताई गई इसका घाटे में चलना। ऐसे में वह कंपनी ये लोन कैेसे दे सकती है।

कपिल सिब्बल ने सरकार से सवाल किया है कि  कांग्रेस के किसी नेता पर 10 लाख की गड़बड़ी के आरोप क्यों न हो, उनके पीछे सीबीआई, ईडी लगा देते हैं। क्रोनी कैपिटिलिज्म का आरोप लगा देते हैं। वीरभद्र सिंह पर कितने केस चालू कर दिए। इसी उदाहरण को आगे बढ़ाते हुए कपिल सिब्बल ने कहा, “मैं पूछना चाहता हूं कि अब सीबीआई है कहां,  ईडी है कहां, और प्रधानमंत्री हैं कहां?”

कपिल सिब्बल ने इसके साथ ही अमित शाह के बेटे की दूसरी कंपनी कुसुम फिनसर्व को लेकर भी गंभीर आरोप लगाए। इस कंपनी में जय अमितभाई शाह का शेयर 60 फीसदी है। इस कंपनी को भी राजेश खंडेलवाल ने लोन दिए हैं।

कपिल सिब्बल का कहना है, “गड़बड़ी हुई है या नहीं ये तो जांच से पता चलेगा, हम जांच की मांग कर रहे हैं। क्या पीएम जांच करवाएंगे? मैं पीएम से ये जानना चाहता हूँ कि क्या अब आप सीबीआई को जांच सौपेंगे? जिसके नाम में जय अमित शाह लगा हो उसे कौन गिरफ्तार करेगा?” हालांकि इस पूरे मामले पर अमित शाह के बेटे जय अमितभाई शाह या अमित शाह की तरफ से कोई बयान नहीं आया है।

पीयूष गोयल ने किया पलटवार

लेकिन केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल ने इस मामलें में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कांग्रेस के आरोपों पर पलटवार करते हुए कहा कि जय शाह कानून का पालन करने वाले बिजनेसमैन हैं। उन्होंने कहा कि बैंक से लोन नहीं मिला इसलिए अनसिक्योर्ड लोन लिया गया, जो लोन लिया उसे ब्याज सहित टीडीएस काटकर चुकाया गया।रेल मंत्री ने कहा कि  वेबसाइट ने झूठी खबर दिखाई है, संपादक के खिलाफ 100 करोड़ के आपराधिक मानहानि का केस करेंगे।

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

x

Check Also

आधार से बैंक खाता जोड़ने का आदेश केन्‍द्र सरकार का है आरबीआई का नहीं

Spread the loveब्‍यूरो सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद आधार काे बैंक खाते से लिंक कराने ...