Breaking News
Home / HOME / सुप्रीम कोर्ट ने लगाई दिल्‍ली-एनसीअार में पटाखों की बिक्री पर रोक

सुप्रीम कोर्ट ने लगाई दिल्‍ली-एनसीअार में पटाखों की बिक्री पर रोक

Spread the love

अगर आप दिल्ली-एनसीआर में रहते हैं तो आपकी ये दिवाली काफी शांत बीतेगी। सुप्रीम कोर्ट ने नई दिल्ली-एनसीआर में पटाखों की बिक्री पर रोक बरकरार रखी है। अब दीवाली से पहले यहां पटाखों की बिक्री नहीं होगी। बता दें कि इस बार दिवाली 19 अक्टूबर को मनाई जाएगी। पुलिस की ओर से दिए गए स्थायी और अस्थायी दोनों ही लाइसेंस रद्द कर दिए हैं।

सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि पटाखों की बिक्री 1 नवंबर, 2017 से दोबारा शुरू हो सकेगी। इस फैसले से सुप्रीम कोर्ट देखना चाहता है कि पटाखों के कारण प्रदूषण पर कितना असर पड़ता है।

इस आदेश में दिल्ली एनसीआर में पटाखों की बिक्री को शर्तों के साथ इजाजत दी गयी थी। सितंबर के आदेश के बाद जिन दुकानदारों ने बिक्री के लिए पटाखे खरीद लिए थे, नए आदेश से उन्हें झटका लगा है। एक नवंबर तक वो पटाखे नहीं बेच पाएंगे। हालांकि पटाखे फोड़ने पर रोक नहीं है, जिन लोगों ने पटाखे खरीद लिए हैं वो फोड़ सकते हैं।

सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि वो इस दीवाली रोक के साथ यह देखना चाहते हैं कि क्या इससे प्रदूषण के स्तर में कमी आती है। पिछले साल सुप्रीम कोर्ट ने प्रदूषण के बढ़ते स्तर को देखते हुए दिल्ली-एनसीआर में पटाखा बिक्री पर रोक लगा दी थी।

एक नवंबर से किन शर्तों के साथ बिकेंगे पटाखे?

  • अग्नि सुरक्षा मानकों का कड़ाई से पालन हो
  • ध्वनि प्रदूषण मानकों का पालन हो
  • नो नॉइस ज़ोन यानी अस्पताल, स्कूल-कॉलेज, कोर्ट आदि के 100 मीटर के दायरे में पटाखे चलाने पर पाबंदी का प्रशासन पालन करवाए
  • पटाखों की रिटेल बिक्री के अस्थायी लाइसेंस पिछले साल के मुकाबले आधे किए जाएं
  • बड़े कारोबारियों को मिले स्थायी लाइसेंस पर रोक हटी. इस साल दिवाली में हुए प्रदूषण के आधार पर दोबारा समीक्षा होगी
  • पटाखा कारोबारी बाहर से पटाखा न मंगाएं. दिल्ली-एनसीआर में लाखों टन पटाखे का स्टॉक है. ये पर्याप्त है
  • बड़े लाइसेंस धारक 2018 में इस साल के मुकाबले आधे पटाखे बेचेंगे. हर साल ये इजाज़त घटाई जाएगी. अगर इस पर एतराज़ हो तो 30 दिन में याचिका डालें
  • एल्युमिनियम, सल्फर, पोटेशियम, बैरियम वाले पटाखे बेचे जा सकते हैं. बहुत हानिकारक माने गए पदार्थ का इस्तेमाल करने वाले पटाखे न बेचे जाएं
  • दिल्ली सरकार और एनसीआर वाले शहरों की राज्य सरकारें 15 दिन के भीतर स्कूलों में बच्चों को पटाखों के हानिकारक असर पर जागरूक करने वाला अभियान चलाएं
  • विज्ञापन और दूसरे तरीकों से लोगों को भी जागरूक किया जाए
  • सेंट्रल पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड एक विशेषज्ञ कमिटी बना कर पर्यावरण पर पटाखों से नुकसान की समीक्षा करे. 31 दिसंबर तक रिपोर्ट दे
  • सरकार लोगों को सामूहिक रूप से पटाखे चलाने की व्यवस्था बनाने पर विचार करे

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

x

Check Also

ग्रेनो में क्राइम फाइटर गेम के जुनून में बेटे ने ली थी मां और बहन की जान

Spread the loveक्राइम ब्‍यूरो दिल्ली से सटे गौतमबुद्धनगर के ग्रेटर नोएडा में मां-बहन की हत्या करने ...